Yash Dubey: कमजोर आंखों की वजह से सेलक्टर्स ने किया 7 बार रिजेक्ट, अब MP को बनाया रणजी चैंपियन

2022 के रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) में इस बार गजब हो गया. ऐसा इसलिए क्योंकि मध्य प्रदेश पहली बार चैंपियन बन. टीम के हीरो बनकर सामने आए युवा बल्लेबाज यश दुबे (Yash Dubey). यश दुबे ने पूरे सीजन में ही शानदार खेल दिखाया.

मुंबई के खिलाफ फाइनल मुकाबले में यश दुबे ने बेहतरीन 133 रनों की पारी खेली. जिसके मध्यप्रदेश की जीत का आधार रखा. यश दुबे मध्य प्रदेश के लिए इस सीजन दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बनकर उभरे. तो चलिए आपको यश दुबे के बारे में कुछ खास बातें बताते हैं.

फिल्हाल रणजी जीतने के बाद से ही मध्य प्रदेश के सेलेक्टर्स के जुबान पर यश दुबे (Yash Dubey) का नाम खूब है. अब वो सारे के सारे उनकी तारीफों के पूल बांध रहे हैं. मगर क्या आपको पता है? शुरुआत में सेलेक्टर्स का नजरिया यश के लिए बिल्कुल भी ऐसा नहीं था. सेलेक्टर्स उनको सेलेक्ट करने से भी कतराते थे. उनको सेलेक्ट ना करने के पीछे की वजह उनकी कमजोर आंखें थीं.

अपने शुरुआती करियर में यश दुबे चश्मा लगाया करते थे. यश दुबे के बचपन के कोच शैलेश शुक्ला ने न्यू इंडियन एक्सप्रैस के साथ बातचीत के दौरान इस मुद्दे पर खुलकर बातचीत की थी.

शैलेश शुक्ला बताते हैं कि दुबे जी का लौंडा ‘जब वो आठ या 9 साल का था तब उसने भोपाल में मेरी क्रिकेट अकैडमी जॉइन की थी. कुछ साल बाद उनको पढ़ने में दिक्कतें हो रही थी जिसके बाद एक आंखों के डॉक्टर ने उनको चश्मा पहनने को कहा था. आंखों की रोशनी बल्लेबाज की सबसे बड़ी ताकत मानी जाती है इसलिए सेलेक्टर्स उनको सेलेक्ट करने से कतराने लगे.’

Yash Dubey Madhya Pradesh Cricketer
Yash Dubey Madhya Pradesh Cricketer

उनके बचपन के कोच बताते हैं कि ‘ उस वक्त चयनकर्ताओं को को समझाना काफी मुश्किल था. वो कहते हैं कि बच्चे ने हार नहीं मानी और मेहनत करना जारी रखा. जैसे-जैसे वो एक क्रिकेटर के रूप में आगे बढ़े तब उन्होंने कॉन्टैक्ट लेंस का उपयोग करना शुरू कर दिया.’

बता दें कि रणजी ट्रॉफी के इस सीजन में यश दुबे के बल्ले से 10 पारियों में 76.75 की औसत से 614 रन निकले. 2018 में फर्स्ट क्लास डेब्यू करने वाले इस बल्लेबाज ने अब तक कुल 22 फर्स्ट क्लास मैच खेले जिसमें उन्होंने 1473 रन बनाए.

Read Also: ‘1 ओवर में 18 रन वो भी आयरलैंड के खिलाफ’, कश्मीर वापस जाओ बच्चे- Aakash Chopra

error: Content is protected !!