फाइनल से पहले Saha ने छोड़ा अपनी टीम का साथ, व्हाट्सएप ग्रुप से भी किया एग्जिट

IPL की नई टीम गुजरात टाइटंस के विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) ने एक बड़ा बयान दिया है। गुरुवार को उन्होंने आधिकारिक तौर पर कहा है कि वे आगामी रणजी ट्रॉफी में नॉकआउट के लिए अपने राज्य के लिए नहीं खेलेंगे। वहीँ बंगाल टीम के साथ भी उनका करियर खत्म हो गया है। साहा ने इस टीम के साथ साल 2007 में रणजी में डेब्यू किया था।

साहा ने इस राज्य के लिए 122 फर्स्ट क्लास मैच और 102 लिस्ट ए मैच खेले थे। रिद्धिमान फिलहाल नई आईपीएल टीम गुजरात टाइटंस के लिए खेल रहे हैं और आईपीएल फाइनल में गुजरात ने अपनी जगह पक्की कर ली है, फाइनल मैच रविवार को खेला जाएगा।

सीएबी के अध्यक्ष अभिषेक डालमिया ने इस बीच एक बयान में कहा कि बंगाल क्रिकेट संघ चाहता था कि साहा उस समय टीम के साथ रहे जब उनकी टीम रणजी ट्रॉफी नॉकआउट खिताब जीतने की कोशिश कर रही थी। मैंने यह बात साहा को ये बताई और उनसे अपने फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा है। हालांकि, इस बार साहा ने हमें बताया कि वह रणजी खेलने के मूड में नहीं हैं।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Wriddhiman Saha (@wriddhi)

सीएबी अधिकारी ने यह भी कहा कि अभी तक साहा (Wriddhiman Saha) ने अनापत्ति प्रमाण नहीं मांगा है, लेकिन जब वह इसकी मांग करेंगे तो हम उन्हें मना नहीं करेंगे। अधिकारी ने मीडिया को बताया, “हमारे तरफ से साहा को मनाने की पूरी कोशिश की गई, वहीँ उनके बचपन के कोच जयंत भौमिक ने भी उन्हें मनाया।” लेकिन उन्होंने अपना पक्का इरादा कर लिया है कि वह अब बंगाल के लिए नहीं खेलेंगे।

एक अख़बार के मुताबिक अब साहा ने बंगाल टीम के व्हाट्सएप ग्रुप को भी छोड़ दिया है। जिस पर बंगाल टीम के कोचिंग स्टाफ के एक सदस्य ने कहा, ”मैं साहा के कदम पर कुछ नहीं बोल सकता, लेकिन अब स्थिति साफ है और हम आगे की सोच सकते हैं। बता दें कि पहले ग्रुप स्टेज में साहा ने खेलने से मना किया था। बता दें कि ये फैसला उन्हें भारतीय टीम से बाहर किए जाने के बाद लिया गया था।

Read Also: ‘उस वक्त मेरी G**** फट कर चौराहा हो रखी थी’- Harshal Patel

error: Content is protected !!