‘औकात नहीं है तो दुकान पर क्यों चले आया’, कौन हैं MI के Kumar Karthikeya?

Who is Kumar Karthikeya: मुंबई इंडियंस ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ टीम में दो बदलाव किए हैं। मुंबई में बाएं हाथ के स्पिनर कुमार कार्तिकेय सिंह और टिम डेविड को शामिल किया गया है। आपको बता दें कि चोट के कारण इस सीजन से बाहर हो गए एमपी के मोहम्मद अरशद खान की जगह कुमार कार्तिकेय सिंह को शामिल किया गया था। तो आइये जानते हैं कि उनके सफ़र के बारे में

2 राज्यों में नहीं मिला मौका

कार्तिकेय उत्तर प्रदेश के निवासी हैं। वहीँ उनके परिवार की बात करें तो पिता श्यामनाथ सिंह पुलिस में हैं और मां सुनीता सिंह गृहिणी हैं। कार्तिकेय ने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत उत्तर प्रदेश से की, लेकिन वहां उन्हें बहुत कम खेलने के मौके मिलें, जिसके बाद उन्होंने दिल्ली जाने का फैसला किया।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Mumbai Indians (@mumbaiindians)

जहाँ पर कोच संजय भारद्वाज के अंडर उन्होंने खुद को ट्रेनिंग देनी शुरू की। कोच संजय ने उन्मुक्त चंद, अमित मिश्रा, गौतम गंभीर जैसे कई दिग्गज खिलाडियों को कोचिंग दी हुई है, लेकिन कार्तिकेय (Kumar Karthikeya) की किस्मत यहाँ भी नहीं चली, जिसके बाद वह कोच की सलाह पर मध्य प्रदेश चले गए, जहाँ उन्हें फर्स्ट क्लास में खेलने का मौका मिला।

9 साल से नहीं गए घर

संघर्ष के दिनों का ज़िक्र करते हुए कार्तिकेय बताते है कि वह पिछले 9 साल से अपने घर नहीं गए हैं, जिसकी वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि मैंने सोचा था कि कुछ बेहतर करके ही घर वापस जाऊँगा. मेरे परिवार के लोग काफी फ़ोन करते हैं, लेकिन मैं जाता नहीं हूँ और सबसे ज्यादा मेरी माँ मुझे बुलाती हैं।

अपने क्रिकेट के सफ़र के बारे में बताते हुए कहा कि कोच संजय भारद्वाज ने मध्य प्रदेश में उनके लिए बात की थी और उन्होंने ही शहडोल संभाग खेलने की सलाह दी थी, जिसके बाद ही मप्र अंडर-23 टीम के स्टैंडबाई में मेरा चयन हुआ था।

लगातार कर रहे हैं अच्छा प्रदर्शन

जब रणजी टीम के चयन ट्रायल में कुमार कार्तिकेय (Kumar Karthikeya) को खिलाया गया, तो उन्होंने 5 विकेट लिए। इसके बाद वे एक अभ्यास टूर्नामेंट खेलने के लिए एमपी टीम के साथ मैसूर गए। यहां उनके बेहतरीन प्रदर्शन की  वजह से उन्हें वनडे टीम के लिए चुना गया। चार मैचों में उन्होंने 8 विकेट लिए, जो उनके रणजी टीम का रास्ता बन गया। इसके बाद 2018-19 में उन्होंने रणजी में डेब्यू किया और हिमाचल प्रदेश के खिलाफ तीसरे ही मैच में एक पारी में 5 विकेट सहित कुल 9 विकेट चटकाए।

 

error: Content is protected !!