Sanath Jayasuriya की वो विश्वकप पारी जिसने Cricket का भूगोल ही बदल दिया!

Sanath Jayasuriya counter attack batting against England in 1996 World Cup: क्रिकेट के फैंस के लिए सनथ जयसूर्या कोई नया नाम नहीं है. 90s में इस नाम का खौफ दौड़ता था गेंदबाजों में. बाएं हाथ का श्रीलंका का ये वो प्लेयर था जिसने 1996 के विश्व कप में श्रीलंका का नक्शा ही बदल दिया था क्रिकेट की धरती पर.

1996 विश्वकप से पहले सनथ जयसूर्या (Sanath Jayasuriya) ने 98 पारियां खेली थीं. इस दौरान इनकी औसत 20 रन से भी कम की थी. लेकिन 1996 वर्ल्ड कप खत्म होते-होते सनथ कुछ और ही बन चुके थे. 1996 विश्व कप में सनथ जयसूर्या (Sanath Jayasuriya) ने श्रीलंका की तरफ से मैन ऑफ दे विश्व कप जीता था. साथ ही टीम को विश्व कप जीताने में सबसे बड़ी भूमिका निभाई थी.

ये भी पढ़ें: खत्म हो गया इन 4 खिलाड़ियों का करियर, IPL खुद को साबित करने का आखिरी मौका

1996 विश्वकप की एक पारी काफी ज्यादा याद की जाती है. सनथ की यह पारी आई थी इंग्लैंड के खिलाफ 9 मार्च 1996 को पाकिस्तान के फैसलाबाद में. इस पारी में सनथ जयसूर्या (Sanath Jayasuriya) ने मात्र 44 गेंदों पर 82 रनों की उम्दा पारी खेली थी. इस मैच में श्रीलंका को जीत के लिए 236 रन चाहिए थे. मगर सनथ की पारी के बदौलत श्रीलंका ने मैच 56 गेंद पहले ही जीत लिया वो भी सिर्फ 5 विकेट गवां कर. इसके साथ ही श्रीलंका क्रिकेट को एक नई दिशा भी दी थी. आसान शब्दों में समझा जाए तो 1996 विश्व कप पूरी तरह से श्रीलंका का ही था. नीचे वीडियो में देखिए सनथ की शानदार पारी. 

क्योंकि साल 1992 में आए नए रूल पॉवरप्ले को श्रीलंकाई टीम ने बड़े अच्छे से समझा था. साथ ही अपनी टीम को उसी के हिसाब से ढाल भी लिया था. जैसे ही श्रीलंकाई टीम बल्लेबाजी के लिए उतरती थी. वैसे ही सनथ जयसूर्या और रमेश कालूवितर्णा जोड़ी पॉवरप्ले में गेंदबाजों पर टूट पड़ती थी. क्योंकि तब शुरूआती 15 ओवर पॉवरप्ले होता था.

इस बात का आप अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि भारतीय टीम के खिलाफ श्रीलंका ने मात्र 4 ओवरों में 50 रन बना दिए. तो वही केन्या के खिलाफ होने वाले मैच में 3 ओवर पर 43 रन स्कोर था. जोड़ी का 1996 के विश्वकप में इरादा सिर्फ एक ही रहता था कि जैसे आखरी ओवरों में दूसरी टीम तेज रन बनाना चाहती है. वैसा हम शुरुआती ओवरों में करेंगे क्योंकि हमारे हाथ में विकेट भी रहता है. साथ ही तब गेंद भी नई होती है जिससे शॉट मारना आसान होता था.

श्रीलंकाई टीम का फॉर्मूला 1996 विश्व कप में सिर्फ एक ही था कि अगर हम शुरूआत में ही विरोधी टीम को नीचे कर देंगे तो मैच आराम से जीत जाएंगे.

सनथ की पारी का वीडियो:

error: Content is protected !!