’20 पर 4 होते हैं तो नहीं आता बैटिंग, 200 पर 1 होने पर आता है’ धोनी से गुस्साए फैंस

IPL 2022 का 49वां मुकाबला चेन्नई सुपर किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के मध्य खेला गया. ये मैच धोनी की चेन्नई के लिए करो या मरो था. मगर इस मुकाबले में आरसीबी ने चेन्नई को पटखनी देकर उनकी प्लेऑफ की उम्मीदें खत्म कर दी. इस मुकाबले को आरसीबी ने 13 रनों से अपने नाम किया.

चेन्नई ने आरसीबी को बल्लेबाजी का न्यौता दिया था टॉस जीतकर. जिसके बाद फाफ डु प्लेसिस और विराट कोहली ने शानदार शुरुआत की. मगर दोनों ही लंबी पारी नहीं खेल पाए. फाफ 38 रन तो विराट टेस्ट मैच पारी खेलकर आउट हुए. उन्होंने 33 गेंदों पर 30 रनों की धीरी पारी खेली. मगर महिपाल (42), रजत (21) और दिनेश कार्तिक के नाबाद 26 रनों की बदौलत बैंगलोर ने 173 रनों का ठीक-ठाक स्कोर खड़ा किया. इसके जवाब में चेन्नई 160 रन ही बना पाई वो भी 8 विकेट गवां कर.

चेन्नई के लिए डेवन कॉनवे ने 56 और मोईन अली ने 34 रनों की अच्छी पारी खेली. फैंस चेन्नई की इस हार का ठीकरा धोनी पर फोड़ रहे हैं. वो भी इसलिए क्योंकि अगर धोनी चाहते तो मैच बदल सकता था.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Chennai Super Kings (@chennaiipl)

फैंस का कहना है कि जब 200 रनों की पार्टनरशिप हो जाती है तो धोनी 3 नंबर पर आते हैं. मगर जब टीम मुश्किल में फंसी होती है तो वो किसी और को भेज देते हैं मुश्किल में बल्लेबाजी करने.

दरअसल जब धोनी बल्लेबाजी करने आए तो टीम को चाहिए था 12 गेंदों में 41 रन ऐसे में सबको ये बात पता है कि ऐसा कारनामा बार-बार नहीं होता. 12 गेंदों पर 41 रन बनाना आसान काम नहीं है. मगर चेन्नई को इस हालात में पहुंचाने वाला था कौन? जी हां और कोई नहीं महेंद्र सिंह धोनी. धोनी चाहते तो मैच के 15वें ओवर में आ सकते थे जब अंबति रायडु आउट हुए थे. तब टीम को जीत के लिए 30 गेंदों पर 56 रन चाहिए थे.

Read More: मुकेश ने गुस्से में ‘बेल’ दी विराट को बॉल, घुटने के बल गिरा शेर फिर भी मुस्करा दिया: वीडियो

मगर धोनी को अपनी काबिलियत पर शक था इसिलए उन्होंने जडेजा को भेज दिया. जो इस सीजन में कुछ खास नहीं कर पाए हैं. ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा कि धोनी ने खुद ही सीएसके को लीग से बाहर करवा दिया.

error: Content is protected !!