कैच छोड़ने के लिए Sreesanth, Dhoni को ‘गरिया’ रहे थे, माही बोले- चल गेंद डाल चेले

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni and S Sreesanth in World Cup) को उनकी कप्तानी के दौरान मैदान में घटे कई दिलचस्प किस्सों के लिए याद किया जाता है। महेंद्र सिंह धोनी के कई यादगार किस्से उनके साथी खिलाड़ियों से जुड़े। जिसमें कई कहानियां सामने आती हैं। लेकिन कुछ कहानियां मैदान में ही दबी रह जाती हैं।

MS Dhoni के साथ S Sreesanth का एक किस्सा…

वैसे तो महेन्द्र सिंह धोन के अपने साथी खिलाड़ियों के साथ बातचीत और दूसरे किस्से सामने आ ही जाते हैं, लेकिन इनमें से कुछ को लेकर हर कोई अनजान रहता है। ऐसे में आज हमको इस तरह एक अनजान किस्से से रूबरू कराते हैं।

यह कहानी किसी और से नहीं बल्कि एस श्रीसंत की है, जिन्हें भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे गुस्सैल खिलाड़ी के रूप में याद किया जाता है। जो साल 2007 में भारत कीवर्ल्ड टी20 टीम का हिस्सा थे।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Sree Santh (@sreesanthnair36)

अपने अंदाज में धोनी ने समझाया

आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग कांड के बाद से भारतीय टीम से बाहर हो गए तेज़ गेंदबाज शांताकुमारन श्रीसंत अपने गुस्सैल स्वभाव के लिए हमेशा सुर्ख़ियों में बने रहते थे, कभी मैदान में दूसरे खिलाडियों से, तो कभी दर्शक से भिड़ते नज़र आ जाते थे, कुछ इसी तरह की आक्रमकता में एक बार वो नजर आए थे, जिसके बाद धोनी ने उन्हें संभाला था।

यह घटना 2007 वर्ल्ड टी20 जीतने के करीब एक हफ्ते बाद की है। जब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत का मैच चल रहा था, वहीँ इस दौरान एस श्रीसंत काफी गुस्सा हो रहे थे, जिसके बाद कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने उन्हें अपने ही अंदाज में समझाया।

रॉबिन उथप्पा ने सुनाया किस्सा

हालांकि इस घटना का पहले कभी खुलासा नहीं किया गया था, लेकिन 14 साल बाद आखिरकार इसका खुलासा भारतीय क्रिकेटर रॉबिन उथप्पा ने किया जो उस समय टीम के साथ मैदान में मौजूद थे। इस घटना का जिक्र रॉबिन उथप्पा ने अपने यूट्यूब चैनल के जरिए किया।

यूट्यूब चैनल पर रॉबिन उथप्पा ने कहा कि

“यह वर्ल्ड कप के बाद की बात है, जब हम ऑस्ट्रेलिया से मैच खेल रहे थे। जहाँ तक मुझे याद है कि एंड्रयू साइमंड्स या माइक हसी में से कोई एक बल्लेबाजी करते हुए रुक गया, जिसके बाद श्रीसंत रुका और स्टंप उखाड़ दिया और कहने लगा कि ये कैसा लगा? जिसके बाद एमएस दौड़ते हुए उसकी तरफ बढ़ें और कहा जाकर गेंद फेकों भाई, अगर कोई उसको सही से संभाल सकता था, तो वो धोनी ही थे।

उन्होंने आगे कहा कि ” उस मैच के दौरान काफी कुछ हुआ था। मैं लॉन्ग ऑन पर था। जब बॉल हवा में चली गई, तो मैं सोचने लगा कि जिस तरफ गेंद गई हैं वहां पर कौन है और जब मैंने देखा कि श्री उस जगह पर खड़ा है, तो मैं उसकी तरफ दौड़ने लगा, मैं प्रार्थना कर रहा था कि पकड़ लेना।क्योंकि आप विश्व कप फाइनल पाकिस्तान से नहीं हार सकते और उसमें हम उनसे हमेशा ही बेहतर होते हैं”।

Read More: ‘कोल्ड ड्रिंक से ज्यादा रम पीता था, प्रैक्टिस से ज्यादा पार्टी करता था David Warner’

error: Content is protected !!