Ishan Kishan ने खुद को बताया Gayle जितना बड़ा खिलाड़ी, लोगों ने ‘गरिया’ दिया

Ishan Kishan compare himself from Chris Gayle: इंडियन प्रीमियर लीग के 15वें सीजन ठीक पहले एक मेगा नीलामी हुई। जिसमें कई प्लेयर्स पर पैसों की खूब बरसात हुई। मुंबई इंडियंस ने इस आईपीएल नीलामी में इशान किशन को सबसे महंगे खिलाड़ी के रूप में चुना। जिसके बाद टीम और फैंस की उनसे उम्मीदें काफी बढ़ गई थीं।

ईशान किशन (Ishan Kishan) का निराशाजनक प्रदर्शन

इस सीजन में सबसे महंगे खिलाड़ी के टैग के साथ उतरे ईशान किशनपर प्रदर्शन का दबाव था, लेकिन इसके साथ हीहर कोई उनकी काबिलियत को अच्छी तरह से जानता था।जिसके बाद ईशान सभी की उम्मीदों पर खरें नहीं उतर सकें और सभी को पूरी तरह से निराश किया।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Ishan Kishan (@ishankishan23)

इशान किशन का खराब फॉर्म भी मुंबई इंडियंस के लिए सबसे बड़ी चिंता थी। जहां मुंबई इंडियंस की टीम इस सीजन के प्लेऑफ से बाहर हो गई है, वहीं इशान किशन ने 13 मैचों की 13 पारियों में 30 की औसत और सिर्फ 118 के स्ट्राइक रेट से 370 रन ही बना सके।

सवाल पर तिलमिलाए ईशान किशन (Ishan Kishan)

इस सीजन में ईशान किशन करीब 400 रन बना गए, लेकिन उनकी बल्लेबाज़ी में वह धार नहीं नजर आई, जिसके लिए उनको जाना जाता है।हालांकि ईशान किशन काफी आक्रामक बल्लेबाज हैं, लेकिन इस सीजन में उन्हें बेहद धीमी बल्लेबाजी करते देखा गया।

बता दें कि ईशान किशन से आईपीएल के आखिरी मुकाबले में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मैच के बाद उनकी खराब फॉर्म को लेकर सवाल किया गया, जिसके बाद वह काफी गुस्से में नजर आए। उन्होंने इस पर नाराज़गी दिखाते कहा कि हर बैट्समैन के करियर में ऐसे उतार-चढाव आते रहते हैं।

हर खिलाड़ी देखता है बुरे दौर

ईशान किशन (Ishan Kishan) ने सवालों का जवाब देंते हुए कहा कि “इस दौर से दिग्गज से दिग्गज खिलाड़ी गुज़र चुके हैं। उन्होंने उदहारण देते हुए कहा कि मैंने क्रिस गेल जैसे बड़े खिलाड़ी को खुद को सेट करने के लिए वक़्त लेते हुए देखा है और क्रिकेट में कुछ भी तय नहीं रहता है बस आप एक तय लक्ष्य के साथ मैदान में उतरते हैं, वो ये होता है कि आप गेंद को मैदान से बाहर भेंजेंगे।

विकेटकीपर बल्लेबाज ईशान किशन (Ishan Kishan) ने आगे कहा कि “अगर विपक्षी टीम का बॉलर अच्छी बॉल फेंक रहा है, तो आपको उनको सम्मान देने के साथ ही उनकी गेंदबाज़ी को समझना पड़ेगा और आपने अगर विकेट बचा कर रखी, तो आपके बाद आने वाले बल्लेबाजों का काम आसन हो जाता है”।

Read More: ये 3 दिग्गज खिलाड़ी भविष्य में बन सकते भारत के हेड कोच, जानें क्या है इनमें खासियत

 

 

error: Content is protected !!