20 साल के बल्लेबाज का अंधाधुंध शतक, 18 गेंदों में आए 86 रन, 14 ओवर में मैच खत्म: वीडियो

टी20 क्रिकेट का मायाजाल पूरी दुनिया में फैल चुका है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तो खूब टी20 क्रिकेट खेला ही जा रहा है, साथ ही आईपीएल की देखा-देखी कई बड़ी टी20 लीग भी खेली जा रही हैं और कुछ नई शुरू हो रही हैं. इन सबके अलावा भारत में ही अलग-अलग राज्यों में भी टी20 लीग हो रही हैं और इसमें कुछ शानदार बल्लेबाजी भी दिख रही है. कर्नाटक राज्य क्रिकेट संघ की महाराजा टी20 लीग (Maharaja T20 KSCA) में कुछ ऐसी ही बैटिंग दिखाई 20 साल के बल्लेबाज रोहन पाटिल ने.

महाराजा टी20 लीग में गुलबर्गा मिस्टीक्स और मैसूर वॉरियर्स के बीच मुकाबला हुआ. हालांकि ये मुकाबला सिर्फ 19-19 ओवर का हुआ. मैसूर ने इसमें पहले बल्लेबाजी की और तय 19 ओवरों में 4 विकेट खोकर 164 रन बनाए. टीम के लिए पवन देशपांडे ने सबसे ज्यादा 41 रन बनाए. हालांकि, टीम के कप्तान करुण नायर खास असर नहीं छोड़ पाए और सिर्फ 18 रन ही बना सके. गुलबर्गा की ओर से 10 वाइड और एक नोबॉल समेत कुल 17 रन अतिरिक्त के तौर पर दिए गए.

गुलबर्गा की धुआंधार बैटिंग

लक्ष्य ज्यादा मुश्किल तो नहीं था, लेकिन आसान भी नहीं था. कम से कम मैसूर के खिलाड़ियों और दर्शकों ने तो ऐसा ही सोचा था. लेकिन गुलबर्गा के बल्लेबाजों के इरादे तो कुछ और ही थे. टीम ने 4 ओवरों में ही 50 रन पूरे कर लिए. यहां पर पहला विकेट गिरा जे आचार्य का, जिनका योगदान सिर्फ 3 रन का था.

असल में टीम के लिए 20 साल के युवा ओपनर रोहन पाटिल ताबड़तोड़ अपना बल्ला चला रहे थे. बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने मैसूर के गेंदबाजों की बुरी तरह धुनाई कर डाली और सिर्फ 42 गेंदों में आतिशी शतक जमा दिया.

लगाई चौके-छक्कों की झड़ी

रोहन पाटिल की इस आतिशी बल्लेबाजी में उनका अच्छा साथ दिया कृष्णन श्रीजित ने. दोनों ने सिर्फ 63 गेंदों में 113 रन कूट डाले और टीम को सिर्फ 14.1 ओवरों में ही 9 विकेट से बड़ी और आसान जीत दिला दी. रोहन पाटिल ने सिर्फ 47 गेंदों की पारी खेली, जिसमें 1 नाबाद 112 रन उड़ाए. रोहन ने अपनी पारी में 86 रन तो सिर्फ 18 गेंदों में चौके-छक्के से बटोर लिए. इस बल्लेबाज ने 11 चौके और 7 छक्के ठोके. वहीं श्रीजित ने 29 गेंदों में 46 रन बनाए.

error: Content is protected !!