Test Cricket में 199 और 299 रनों पर नाबाद लौटने वाले 3 दिग्गज बल्लेबाज

Test Cricket Special: दोस्तों क्रिकेट में कुछ खिलाड़ी ऐसे भी रहे हैं जो अपने साथी खिलाड़ियों की वजह से दोहरा शतक या तिहरा दोहरा शतक लगाने से चूक गए। आज हम जिन तीन खिलाड़ियों के बारे में बात करने जा रहे हैं। वह प्लेयर्स दूसरे छोर से अपने साथी खिलाड़ियों के आउट होने के कारण 199 या 299 के विशाल स्कोर पर नाबाद लौटे थे।

दोहरा शतक या तिहरा शतक बनाना टेस्ट क्रिकेट में एक बड़ी उपलब्धि मानी जाती है, लेकिन इन तीनों दिग्गज खिलाड़ियों को अपने साथी खिलाड़ियों की वजह से इस खास उपलब्धि से दूर रहना पड़ा, तो आइए बात करते हैं इन तीन दुर्भाग्यपूर्ण खिलाड़ियों के बारे में जिन्हें 199 या 299 के स्कोर पर नाबाद वापसी की थी।

एंडी फ्लावर

जिम्बाब्वे के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज एंडी फ्लावर 2001 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 199 रन पर नाबाद रहे। दरअसल, इस मैच में दक्षिण अफ्रीका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पहली पारी 600/3 पर घोषित की थी। जवाब में जिम्बाब्वे की टीम पहली पारी में 286 रन पर सिमट गई।

Andy Flower

जिम्बाब्वे के लिए एंडी फ्लावर ने पहली पारी में 142 रन बनाए। एंडी फ्लावर ने दूसरी पारी में भी अच्छा प्रदर्शन करते हुए अपने दोहरे शतक के लिए 199 रन पर खेल रहे थे तब डगलस होंडो जिम्बाब्वे टीम के आखिरी विकेट के रूप में आउट हुए और एंडी फ्लावर 199 रन बनाकर नाबाद रहे. दक्षिण अफ्रीका ने 9 विकेट से मैच जीत लिया, लेकिन मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार एंडी फ्लावर को ही मिला।

कुमार संगकारा

श्रीलंकाई टीम के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा बेहतरीन बल्लेबाज रह चुके हैं। 2012 में कुमार संगकारा गॉल टेस्ट मैच में पाकिस्तान के खिलाफ शानदार बल्लेबाजी कर रहे थे। वह अपने दोहरे शतक के काफी करीब थे। उन्होंने अंतिम विकेट के रूप में प्रदीप के साथ 27 रन जोड़े थे।

जिसके बाद मात्र 4 गेंद खेलने वाले प्रदीप को हफीज की एक गेंद ने बोल्ड आउट कर दिया और कुमार संगकारा अपना दोहरा शतक नही बना सके थे।

डॉन ब्रैडमैन

डॉन ब्रैडमैन ऑस्ट्रेलियाई टीम के एक दिग्गज बल्लेबाज थे। 1931-1932 में एडिलेड में डॉन ब्रैडमैन द्वारा खेले गए टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया का सामना दक्षिण अफ्रीका से हुआ। दक्षिण अफ्रीका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पहली पारी में 308 रन बनाए थे।

जवाब में ऑस्ट्रेलिया की टीम ने ब्रैडमैन के दोहरे शतक से 500 रन बनाए। जब ऑस्ट्रेलिया के नौ विकेट गिर चुके थे और उस समय ब्रैडमैन 299 रन पर थे, तब उनके साथी थर्लो, जिन्होंने उनके साथ अंतिम विकेट के लिए 14 रन जोड़े थे, रन आउट हो गए और ब्रैडमैन अपना तिहरा शतक पूरा नहीं कर सके। (Test Cricket Special)

error: Content is protected !!