टेस्ट क्रिकेट में चार गेंदों पर चार छक्के जड़ने वाले बल्लेबाज, एक भारतीय शामिल

टेस्ट क्रिकेट को क्रिकेट का सबसे मुश्किल फार्मेट माना जाता है. बल्लेबाजों के लिए ये काफी धीमा फार्मेट है. क्योंकि टेस्ट क्रिकेट की गेंद और पिच दोनों ही गेंदबाजो के लिए ज्यादा फायदेमंद होती हैं. ऐसे में ज्यादातर बल्लेबाजों की सोच यही होती हैं टेस्ट क्रिकेट में की उन्हें अपनी तकनीक में ध्यान रखकर पारी को आगे बढ़ाया जाए. लेकिन इस पोस्ट में हम आपको उन खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट को भी टी-20 बना दिया. साथ ही चार गेंदों पर लगातार चार छक्के जड़ दिए.

कपिल देव

कपिल देव भारतीय क्रिकेट के महानतम ऑल-राउंडर रह चुके हैं. 30 जुलाई 1990 को कपिल देव ने जबरदस्त बल्लेबाजी की थी. कपिल देव ने इंग्लैंड के गेंदबाज एडी हेमिंग्स की चार गेंदों पर एक के बाद एक चार छक्के जड़ दिए थे. उस वक्त भारत को फॉलोआन बचाने के लिए 24 रन चाहिए थे जबकि टीम का एक ही विकेट बचा था. कपिल ने इस पारी में 77 रन बनाए साथ ही टीम को फॉलोआन से भी बचाया.

शाहिद अफरीदी

भारत और पाकिस्तान के बीच साल 2006 में टेस्ट मैच खेला गया. ये मैच था लाहौर में. भारत के लिए जैसे ही हरभजन सिंह गेंदबाजी करने आए तो शाहिद अफरीदी ने उनकी गेंदों की कुटाई कर दी. अफरीदी ने भज्जी के ओवर की पहली चार गेंदे बाउंड्री पार भेज दीं. इस पारी के दौरान अफरीदी ने 7 छक्के मारे साथ ही शतक भी लगाया था.

एबी डीविलियर्स

दक्षिण अफ्रीका के अभी तक के सबसे दिग्गज और सुपरमैन बल्लेबाज एबी डी ने टेस्ट क्रिकेट की चार गेंदों पर लगातार छक्के जड़ रखे हैं. इन्होंने केपटाउन में हुए मुकाबले के दौरान साल 2009 में ऑस्ट्रेलिया के मध्यम गति के गेंदबाज एंडू मैकडॉनल्ड की चार गेंदों पर चार बार छक्का मारा था. इस मैच में साउथ अफ्रीका ने पारी से जीत दर्ज की थी. एबी ने इस दौरान शानदार 163 रन बनाए थे.

error: Content is protected !!