वो 3 भारतीय दिग्गज जिन्हें MS DHONI ने संन्यास से पहले अंतिम मैच ही नहीं खिलाया

जब महेंद्र सिंह धोनी (MS DHONI) भारतीय टीम के कप्तान थे. तो उनकी कप्तानी में कई दिग्गज खिलाड़ियों ने भारत के लिए खेला. इन खिलाड़ियों को महेंद्र सिंह धोनी से भी ज्यादा अनुभव था. कुछ खिलाड़ी इनमें ऐसे भी तो जो भारतीय टीम की कप्तानी भी कर चुके थे. तो तब एम एस धोनी (MS DHONI) इन सभी खिलाड़ियों के सामने एकदम नए थे. अनुभव के मामले में भी और उम्र में भी. समय के साथ एमएस धोनी (MS DHONI) का एक्सपीरियंस भी बढ़ता चला गया. जिसके चलते उन्हें कप्तानी भी दे दी गई.

कप्तानी मिलने के बाद धोनी भारतीय टीम में खिलाड़ियों का चयन और प्लेइंग इलेवन में किसे खिलाना है. यह तक डिसाइड करने लगे. जब महेंद्र सिंह धोनी कप्तान थे. तब युवराज सिंह (Yuvraj Singh) और गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) को टीम से लगातार अंदर और बाहर होते रहना पड़ा था. ये भी पढ़ें: 2014 पर्पल कैप विनर Mohit Sharma को मजबूरी में करना पड़ रहा है आज ये काम!

तो वहीं दूसरी तरफ चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेलने वाले कई बेकार खिलाड़ी भी भारतीय टीम खेल कर जा चुके थे. मोहित शर्मा (Mohit Sharma) और मनप्रीत गोनी (Manpreet Goni) इनमें से प्रमुख नाम हैं.

महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में कोई बात अगर दर्शकों को सबसे ज्यादा याद आती है. तो वह यह है कि इनकी कप्तानी के दौरान खेले गए कई ऐसे दिग्गज खिलाड़ी थे. जिन्होंने चुपचाप संन्यास ले लिया था. और उन्हें एक विदाई मैच तक नहीं मिला था. वनडे क्रिकेट में ऐसे कई खिलाड़ी हुए हैं. हालांकि इस पोस्ट में हम सिर्फ तीन दिग्गज की बात करने जा रहे हैं.

 

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Laureus (@laureussport)

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar)

सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट का भगवान माना जाता है. उन्होंने अपना आखिरी वनडे मुकाबला साल 2012 में 18 मार्च को खेला था. पाकिस्तान के खिलाफ यह मैच भारत महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेल रहा था. इसके बाद सचिन तेंदुलकर को वापस टीम में कभी नहीं लिया गया या. अभी तक ये बात सामने नहीं आई है कि सचिन तेंदुलकर की चयनकर्ताओं से क्या बात हुई थी. जिसके बाद सचिन ने दिसंबर 2012 को चुपचाप संन्यास की घोषणा कर दी.

वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag)

वीरेंद्र सहवाग आज किसी पहचान के मोहताज नहीं है. वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर ने भारत को कई शानदार ओपनिंग साझेदारी दी. टेस्ट क्रिकेट में दो तिहरे शतक साथ ही वनडे में दो दोहरे शतक जड़ने वाले वीरेंद्र सहवाग भारतीय टीम के दिग्गज खिलाड़ियों में गिने जाते हैं. साल 2013 में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ अपना आखिरी वनडे मुकाबला खेला था. जिसके बाद उन्हें टीम में शामिल नहीं किया गया. महेंद्र सिंह धोनी से तंग आकर वीरेंद्र सहवाग ने 20 अक्टूबर 2015 को संन्यास की घोषणा कर दी.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Virender Sehwag (@virendersehwag)

जहीर खान (Zaheer Khan)

जब भी भारतीय तेज गेंदबाजों की बात होती है. तो जहीर खान का नाम सबसे पहले आता है. 2003 और 2011 के विश्व कप में इनकी गेंदबाजी शानदार रही थी. उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ अपना अंतिम वनडे मैच खेला था. इसके बाद उन्होंने कुछ साल इंतजार किया लेकिन जब महेंद्र सिंह धोनी ने इन्हें भी नजरअंदाज कर दिया तो 2015 में उन्होंने क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by StepSetGo | SSG (@stepsetgo)

 

error: Content is protected !!