वो 3 भारतीय दिग्गज जिनका डेब्यू T-20 मैच ही बन गया आखिरी, नसीब नहीं हुआ दूसरा मैच

T-20 क्रिकेट की शुरुआत इंग्लैंड की धरती से हुई, लेकिन धीरे-धीरे हर जगह लोकप्रिय हो गया है। भारत में भी दर्शक इसे खूब पसंद कर रहे हैं. आज दुनिया में आईपीएल सबसे लोकप्रिय टूर्नामेंट है। भारतीय टीम ने इसे दूसरे देशों से बाद में खेलना शुरू किया लेकिन पहला मैच जीतकर अगले ही साल टी20 वर्ल्ड कप पर कब्जा जमा लिया। यह टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का पहला वर्ल्ड कप था जो 2007 में साउथ अफ्रीका की धरती पर खेला गया था।

भारतीय टीम ने पहली बार दिसंबर 2006 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वांडरर्स मैदान पर T-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला था। पहली बार खेलते हुए टीम इंडिया ने 6 विकेट से जीत दर्ज की। उसमें दिनेश कार्तिक ने नाबाद 31 रन बनाए। खास बात यह भी है कि धोनी उस मैच में जीरो रन बनाकर आउट हो गए थे। तब से, भारत ने टी20 अंतरराष्ट्रीय में 115 मैच खेले हैं, जिसमें 71 बार जीत, 41 में हार और 3 मैच अनिर्णीत हैं। इस आर्टिकल में हम उन भारतीय खिलाड़ियों की बात करेंगे जिनका टी20 डेब्यू मैच ही आखिरी था और फिर मैदान में वो कभी नहीं लौटें।

Dinesh Mongia in T-20

दिनेश मोंगिया

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दिनेश मोंगिया का पहला T20मैच भारत का पहला T20 मुकाबला था। उन्होंने इस मैच में 45 गेंदों में 38 रन बनाए, जिसमें चार चौके और एक छक्का शामिल था। उन्हें रॉबिन पीटरसन ने चार्ल्स लैंगवेल्ट की गेंद पर लपका। उन्हें इस मैच के बाद कभी भी भारतीय टीम में टी20 मैचों में खेलने का मौका नहीं मिला।

सचिन तेंदुलकर

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने भारत के पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में हिस्सा लिया था।इस दौरान उन्होंने 12 गेंदों में 10 रन बनाए और चार्ल्स लेंगवेल्ट ने उन्हें आउट किया। उन्होंने इस मैच में गेंदबाजी भी की थी। जिसमें 2.3 ओवर की गेंदबाजी में 12 रन खर्च कर जस्टिन केम्प का विकेट हासिल किया थ । उसके बाद वह फिर कभी टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भारतीय टीम के लिए नहीं खेले।

The Wall

राहुल द्रविड़

31 अगस्त 2011 को भारतीय टीम की दीवार माने जाने वाले राहुल द्रविड़ ने इंडियन टीम के लिए अपना T-20 इंटरनेशनल डेब्यू किया था। इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर में हुए इस मैच में भारत को 6 विकेट से हार का सामना करना पड़ा था। इसमें राहुल द्रविड़ ने 21 गेंदों में 31 रन बनाए और समित पटेल के एक ओवर में लगातार तीन छक्के लगाए। यह मुकाबला द्रविड़ के टी20 करियर का आखिरी मैच भी साबित हुआ। वह फिर कभी टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में नहीं खेले।

Read More: वीडियो: Rishi Dhawan के ‘भीम कवच’ ने लूटा मेला, जानिए क्यों पहना ऐसा मास्क

error: Content is protected !!